search
Live Love Laugh Logo

अपने कार्यस्थल के वातावरण को सकारात्मक और खुशनुमा बनाने के 5 तरीके

एक खुश कार्यस्थल ही एक स्वस्थ कार्यस्थल है! नेतृत्व करने वाले वे व्यापारी जो मुनाफे और कर्मचारी भलाई के दूरगामी प्रभाव को समझतें हैं उनके लिए कार्यस्थल में खुशी गंभीर विषय है। जो लोग काम पर खुश हैं वे जीवन में अधिक आनंद लेते हैं, उनका स्वास्थ्य बेहतर होता है, रिश्ते मजबूत और उद्देश्यपरक होते है। सबूत से पता चलता है कि खुश कर्मचारी अधिक उत्पादक, रचनात्मक और प्रतिबद्ध होते हैं – जिन संगठनों के लिए वे काम करते हैं उन पर भी बहुत सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

फिर भी दुखद तथ्य यह है कि भारी संख्या में लोग काम पर बेतहाशा नाखुश हैं। हालांकि सहायता पास ही है। हम में से हर एक हमारे अपने व्यवहार और दृष्टिकोण के माध्यम से अपने कार्यस्थल में खुशी के स्तर को प्रभावित कर सकते हैं। यहाँ कुछ सुझाव दिए गए हैं।

01

अधिक बार आप चारों ओर देखो।

जिज्ञासा, एक अच्छी बात है पर जब तक यह घुसपैठ नहीं करती। जिज्ञासा हमारे मन का व्यायाम है और मानसिक रूप से सचेत रहने में मदद कर सकता है। तथ्यात्मक और दार्शनिक दोनो स्तर पर जिज्ञासा हमारे दृष्टिकोण को व्यापक कर सकती हैं। अपना परिचय कराने और लोगों के साथ संवाद करने से डरो नहीं। चारों ओर देखो और अपने सहयोगियों की ‘शरीर की भाषा’ और सामाजिक संकेतों पर ध्यान देते हुए अपनी चिंता दिखाओ। हर कोई अपने संघर्ष के बारे में इतना खुला नहीं होता है। और जब हम देखते और गौर करते हैं, तो हम नई दोस्ती विकसित करने और मौजूदा सम्बन्धों को बेहतर करने में खुद की मदद कर सकते है। हम अपनी चाहत और कमियों पर ध्यान केंद्रित करना बंद कर देते हैं और विस्तृत क्षेत्र को देखते हुए उससे जुड़ाव महसूस करते हैं। जिज्ञासा पैदा करने और नए अनुभवों के लिए खुला रहने से, हम उन आश्चर्यजनक और संतोषजनक गतिविधियों का सामना करने की संभावना में वृद्धि करते हैं।

02

कल्याण कार्यक्रम को लागू करें

व्यायाम कई शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य लाभ के साथ आता है जिसमें तनाव के स्तर को कम करना ध्यान केंद्रित करने की क्षमता और उत्पादकता को बढ़ाना तथा व्यग्रता को कम करना शामिल हैं। और क्योंकि हम एक बड़ा हिस्सा जागते हुए बिताते हैं, यह सहयोगियों के साथ व्यायाम की साथी प्रणाली विकसित कर लेना आसान है। अगर आप एक साथ व्यायाम करते है तो एक समूह एक-दूसरे पर नजर रखने और प्रोत्साहित करने में मदद कर सकता है। आप वजन घटाने की एक दोस्ताना प्रतियोगिता पर भी विचार कर सकते हैं। टिप्स शेयर करें, उपलब्धियों का जश्न मनाएं और एक साथ कसरत करने की कोशिश करें। यहां तक कि छोटी सी बात जैसे दोपहर के भोजन के बाद आसपास टहलने से संबंध को बनाने में मदद मिलेगी।

03

बातचीत का नियम बनाओ

क्या आपकी सुबह तनावपूर्ण थी? क्या एक ग्राहक आप को परेशान कर रहा है? इसे बाहर निकालने के लिए एक मिनट समय ले। आप के बगल में जो सह कार्यकर्ता है उसकी दिशा में अपनी कुर्सी घुमाओ और उससे साझा कर अपने दिमाग के तनाव से छुटकारा लो। और ऐसा ही अपने सहकर्मी को भी करने दें। सहानुभूति पूर्वक सुनना सीखें। शिकायत करने को आदत बनाने से बचें। अपनी सीमा पहचानना जानें। दोपहर का भोजन सहयोगियों के साथ करने का प्रयास करें। यह नियम बना लें कि भोजन के दौरान काम से संबंधित कोई बात नहीं करेंगे। जब आप काम के संदर्भ से बाहर वास्तव में एक दूसरे को जानने लगते हैं, कार्यस्थल पर अधिक मिलनसार माहौल होगा। झूठी निंदा और गपशप के नुकसान से बचें। इसके अलावा बदज़बानी और मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े शब्दों जैसे पागल, सनकी, मूढ़, बेवकूफ, आदि के गलत इस्तेमाल से बचने की कोशिश करें।

04

एक समूह शुरू करें

साझा हितों के साथ व्यक्तियों को एक साथ समूह में लाना भावनात्मक रूप से प्रभारित और खुश कार्यस्थल बनाने का एक शानदार तरीका है। यह संबंधों को बनाने को प्रोत्साहित करता है, भाईचारा मजबूत बनाता है और अपनेपन की भावना बढ़ाता है। स्वाभाविक समूहों में खेल के समूह जैसे क्रिकेट और फुटबॉल समूह या किताब पढ़ने वालों का क्लब हो सकता है। लेकिन आप भी रचनात्मक हो कर अन्य समूह शुरू कर सकते हैं जैसे स्टार वार्स क्लब, गेम ऑफ़ थ्रोंस क्लब, साइकिलिंग क्लब, गार्डनर्स क्लब, कॉमेडी क्लब आदि। हालांकि इससे पहले कि आप यह करें अपने एचआर से अनुमति ले लें।

05

हंसने का अपना कोटा पाओ

कार्यस्थल या कहीं और जब तनाव घटाने की बात आती है तो खिलखिलाकर और खीसें पोरकर हंसने की सलाह दी जाती है। हँसना कठिनाईयों को कम कर तनाव घटाने में मदद करता है और सकारात्मक काम के माहौल को बढ़ावा देता है। काम को जब हास्य के साथ किया जाता है तो यह बोझ नहीं लगता है। तनाव और हताशा को खत्म करने के लिए हास्य का उपयोग करें। काम और खेलने के विपरीत नहीं हैं – वे पूरक हैं। चुटकुले साझा करने की कोशिश करें, कठिन स्थिति में हास्य को ढूंढें या मजाकिया वीडियो में एक साथ हंसते रहें। जो भी हो, इसकी व्यवस्था करें कि दिन में कम से कम एक बार आप को अच्छी हंसी मिल रही है।

लेटेस्ट अप्डेट्स

5 अभ्यास है कि मदद मानसिक स्वास्थ्य में सुधार

जो धौंसियाए गए, धौंसियाने वाले और धौंसियाने के गवाह पर धौंसियाने का प्रभाव

7 वजहें जिनके कारण भारतीय आत्महत्या करते हैं

और रोचक लेख खोजेंrytarw

साथ मिलकर हम भावनात्मक समस्याओं से परेशान बहुत से लोगों की मदद कर सकते हैं। हर एक छोटे से छोटा दान भी बदलाव ला सकता है।

दान करें और एक सकारात्मक बदलाव लाएं

हेल्पलाइन संबंधी अस्वीकरण

द लिव लव लाफ फाउन्डेशन (टीएलएलएलएफ) किसी व्यवसाय में शामिल नही है जिसमें सलाह प्रदान की जाती है, साथ ही वेबसाइट पर दिये गए नंबरों का परिचालन, नियंत्रण भी नही करता है। हेल्पलाइन नंबर केवल सन्दर्भ के प्रयोजन से है और टीएलएलएलएफ द्वारा न तो कोई सिफारिश की जाती है न ही कोई गारंटी दी जाती है जो कि इन हेल्पलाइन्स पर मिलने वाली चिकित्सकीय सलाह की गुणवत्ता से संबंधित हो। टीएलएलएलएफ इन हेल्पलाइन्स का प्रचार नही करते और न ही कोई प्रतिनिधि, वारंटी या गारंटी देते हैं और इस संबंध में कोई उत्तरदायित्व नही लेते हैं जो सेवाएं इनके माध्यम से प्रदान की जाती हैं। टीएलएलएलएफ द्वारा इन हेल्पलाइन नंबर पर किये जाने वाले कॉल के कारण होने वाले किसी भी नुकसान की जिम्मेदारी से स्वयं को अलग किया जाता है।