search
Live Love Laugh Logo

क्या आपको सोशल मीडिया की लत लग गई है?

हालांकि ‘सोशल मीडिया की लत’ या ‘इंटरनेट की लत’ को औपचारिक रूप से एक विकार के रूप में सूचीबद्ध नहीं किया गया है, कई मनोवैज्ञानिक लंबे समय तक इसका इस्तेमाल कर रहें लोगों के व्यवहार में आये बदलाव को लेकर चिंतित हैं।

दैनिक सोशल मीडिया का अत्यधिक उपयोग, असंतोष, चिंता, अवसाद और आत्मसम्मान में कमी की भावनाएं पैदा कर सकता है (मैकडुल एवं अन्य, 2016)। ऐसे कारण हेतु, मनोवैज्ञानिकों का सुझाव है कि लोगों को सोशल मीडिया के साथ अपने रिश्ते के विषय को लेकर जागरुक होना चाहिए।
क्या हर सुबह आपका सबसे पहला काम फोन पर सोशल मीडिया अपडेट्स चेक करना होता है?

क्या आपके लिए यह जरूरी हो गया है कि बिस्तर पर जाने से पहले आप अपने फोन या कंप्यूटर पर काफी समय बिताएँ, ताकि आप सो सकें?

क्या सोशल मीडिया अब आपके मनोरंजन का प्रमुख या एकमात्र साधन बन चुका है?

क्या आप अन्य अप्रिय भावनाओं से अपना मन हटाने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग कर रहे हैं?

क्या आप अपनी तुलना दूसरों से नकारात्मक रूप से कर रहें हैं? लगातार उपयोग कर रहे लोग बताते हैं कि कभी कभी उन्हें लगता है कि दूसरें जीवन का ज़्यादा आनंद ले रहें हैं, जिससे उन्हें लगता है कि उनके जीवन में कुछ कमी है। क्या इस तरह के नकारात्मक तुलना की वजह से आपको यह लगता है कि आप दूसरों से कटे हुए और अकेले हो गये हैं?

क्या सोशल मीडिया का उपयोग करने के दौरान आप अक्सर दूसरों के प्रति ईर्ष्या महसूस करते हैं?

क्या सोशल मीडिया पर दूसरों का हालचाल जानकर आपको अपनी कमियाँ याद आती हैं?

क्या तस्वीरों को पसंद किया जाना, टिप्पणियां, अनुयायियों की संख्या आदि ने आपके स्व-मूल्य की भावना को बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है?

क्या ऑनलाइन समय व्यय करने की वजह से अपने आस-पास के लोगों से कटा हुआ महसूस कर रहें हैं?

अपने आस-पास के लोगों के साथ आमने-सामने बैठकर बातचीत कर पाना क्या आपके लिए कठिन हो गया है?

क्या आपने इस बात पर ध्यान दिया है कि आगे आने वाले कार्यों पर ध्यान केन्द्रित करने में आपको दिक्कत हो रही है?

क्या आपके सिर में दर्द रहता है, या आप अक्सर थका हुआ महसूस करते हैं? या ध्यान दिया हो कि सोशल मीडिया का लगातार इस्तेमाल करने पर ज्यादा थकान महसूस करते हैं?

अन्त में, सोशल मीडिया के इस्तेमाल के तुरंत बाद आप कैसा महसूस करते हैं? क्या उपर से नीचे स्क्रोल करने के बाद आप पहले से ज्यादा बुरा महसूस करते हैं? अगर हाँ, तो कुछ दिनों के लिए इससे अपने आपको दूर कर लेना आपके हित में होगा।
आप एक टाइम ट्रैकर वेबसाइट का उपयोग करना शुरू कर सकते हैं जो सोशल मीडिया वेबसाइटों पर आपके द्वारा बिताए जाने वाले समय की निगरानी करता है। लोग दावा करते हैं कि यह ऐप उनकी सामाजिक मीडिया की आदतों के बारे में अवगत रहने में, अपने उद्देश्य पर बने रहने में, और उत्पादकता में वृद्धि करने में उनकी मदद करता है।

http://bit.ly/1eYhXXP

अपने ऑनलाइन सामाजिक आदान-प्रदान को एक यंत्र तक सीमित रखने की कोशिश करें।

सोशल मीडिया पर समय व्यय करने के बजाय जो आपके बारे में सोचते है और आपका समर्थन करते हैं, जैसे आपके परिवारजनों और दोस्तों के साथ मिलने जुलने में अधिक समय बिताएँ। जब आप उनके साथ हो तो अपने फोन या अन्य यंत्रों का इस्तेमाल न करें। एक जैसी पसंद वाले लोगों से सामाजिक मेलजोल बढ़ाएं।

सोशल मीडिया के माध्यम से आंखों को मिलने वाली निरंतर उत्तेजना के चलते, लोग जब अचानक इसका इस्तेमाल करना बंद कर देते हैं तो वे व्यग्र और बेचैन महसूस करते हैं। यदि आप बेचैन या बीमार महसूस कर रहे हैं तो अपना मन उस बात से हटाने के लिए व्यायाम करें या एकाग्रतापूर्वक ध्यान का अभ्यास करें।
http://bit.ly/1eYhXXP

अन्त में, जब भी आप सोशल मीडिया पर वापस जाएं तो यह सुनिश्चित कर लें कि आपने अपने लिए दृढ़ सीमाएं तय की हैं, और ऐसे प्लेटफॉर्मों से बचे जिनकी वजह से आप पहले परेशान महसूस कर चुके है।

लेटेस्ट अप्डेट्स

7 वजहें जिनके कारण भारतीय आत्महत्या करते हैं

(English) The best way to let your workplace know about your mental health issues

क्या वरिष्ठ नागरिकों में शारीरिक विकलांगता या चलने फिरने की समस्या अवसाद का कारण हो सकता है?

और रोचक लेख खोजेंrytarw

साथ मिलकर हम भावनात्मक समस्याओं से परेशान बहुत से लोगों की मदद कर सकते हैं। हर एक छोटे से छोटा दान भी बदलाव ला सकता है।

दान करें और एक सकारात्मक बदलाव लाएं

हेल्पलाइन संबंधी अस्वीकरण

द लिव लव लाफ फाउन्डेशन (टीएलएलएलएफ) किसी व्यवसाय में शामिल नही है जिसमें सलाह प्रदान की जाती है, साथ ही वेबसाइट पर दिये गए नंबरों का परिचालन, नियंत्रण भी नही करता है। हेल्पलाइन नंबर केवल सन्दर्भ के प्रयोजन से है और टीएलएलएलएफ द्वारा न तो कोई सिफारिश की जाती है न ही कोई गारंटी दी जाती है जो कि इन हेल्पलाइन्स पर मिलने वाली चिकित्सकीय सलाह की गुणवत्ता से संबंधित हो। टीएलएलएलएफ इन हेल्पलाइन्स का प्रचार नही करते और न ही कोई प्रतिनिधि, वारंटी या गारंटी देते हैं और इस संबंध में कोई उत्तरदायित्व नही लेते हैं जो सेवाएं इनके माध्यम से प्रदान की जाती हैं। टीएलएलएलएफ द्वारा इन हेल्पलाइन नंबर पर किये जाने वाले कॉल के कारण होने वाले किसी भी नुकसान की जिम्मेदारी से स्वयं को अलग किया जाता है।