search
Live Love Laugh Logo

भोजन के विकार और उनके लक्षण

भोजन के विकार सिर्फ भोजन के बारे में नहीं हैं। वे वास्तव में इलाज के लायक बीमारियां हैं और अक्सर अन्य बीमारियों जैसे अवसाद, मादक द्रव्यों का सेवन, या व्यग्रता विकारों के साथ एक ही समय में होती हैं। जबकि ये दोनों लिंगों को प्रभावित करती हैं, पुरुषों और लड़कों की तुलना में महिलाओं और लड़कियों की दर 2½ गुना अधिक है। भोजन के विकार ज़्यादातर किशोरावस्था या युवा वयस्कता के दौरान प्रकट होते हैं लेकिन यह बचपन में या बाद में भी विकसित हो सकती है। यदि व्यक्ति को उपचार प्राप्त नहीं होता तो कुछ लक्षण जीवन के लिए खतरा बन सकते हैं। एनोरेक्सिया, वास्तव में, किसी मनोरोग विकार की सबसे अधिक मृत्यु दर से जुड़ा है। यहाँ नैदानिक और सांख्यिकी मानसिक विकार के मैनुअल (डीएसएम -5) द्वारा मान्यता प्राप्त खाने के मुख्य विकारों की एक सूची है।

एनोरेक्सिया नेर्वोसा (आहार क्रिया विकार), या सामान्य अरुचि, एक खाने का विकार है जो शरीर के कम वजन और खाद्य प्रतिबंध के द्वारा चिह्नित होती है। वे जोरदार व्यायाम, एकदम से खाना छोड़ना, ज़बरदस्ती उल्टियाँ करना और वजन कम करने के लिए जुलाब का उपयोग करना जैसे अतिवादी कदम उठाने का प्रयास करते हैं। हालांकि आनुवंशिकी, सामाजिक-सांस्कृतिक और जैविक पर्यावरण एक जोखिम कारक के रूप में कार्य करते हैं, एनोरेक्सिया का सही कारण अब भी अज्ञात है।

Symptoms

  • अपर्याप्त भोजन का सेवन।
  • वजन बढ़ने का अतिरंजित भय
  • शरीर की छवि को लेकर जुनून
  • बिंज खाने और फिर खुद के शुद्धीकरण या कोई भी भोजन लेने से रोकना (बिंज खाना / शुद्धीकरण के प्रकार और सीमित करने के प्रकार)

बुलिमिया नेर्वोसा एक खाने का विकार है इसकी विशेषता एक चक्र है जिसमे बिंज खाने के बाद आत्म प्रेरित उल्टी की जाती है जिससे बिंज खाने की क्षतिपूर्ति की जा सके। बिंज खाने / शुद्धीकरण का आवर्ती व्यवहार पाचन तंत्र को नुकसान पहुंचा सकता है और शरीर में रासायनिक असंतुलन पैदा करता है। बुलिमिया नेर्वोसा अवसाद के लक्षणों के साथ भी जुड़ा है।

Symptoms

  • बिंज खाने और शुद्धीकरण के लगातार चक्र
  • पेट में एसिड के कारण दांतों का रंग बिगाड़ना
  • सामाजिक जीवन से बचते हैं
  • हाथ के पीछे और आत्म प्रेरित उल्टी से पोर पर चोट लगना
  • शरीर की छवि के बारे में तर्कहीन सचेतन

बिंज खाने के विकार (बीइडी) एक भोजन का विकार है जो कि भोजन को बड़ी मात्रा में बार-बार लेने से चिह्नित की जाती है। इसमें इसके बाद अपने खाने पर नियंत्रण नहीं होने के लिए शर्म और अपराधबोध महसूस होता है। बुलिमिया के विपरीत, बीइडी से ग्रस्त लोग बिंज खाने में लिप्त रहते हैं लेकिन शुद्धीकरण नहीं करते है इससे अक्सर उनका वजन बढ़ता और स्थूल हो जाते हैं। उनमें शर्म और अपराधबोध की भावना आत्महत्या की प्रवृत्ति भी लाती है।

Symptoms

  • भोजन की बड़ी मात्रा का लगातार खाना।
  • वजन बढ़ने को रोकने के लिए कोई कार्रवाई न करना
  • बिंज खाने के बाद अपराधबोध और शर्म आना
  • बिना भूख के असुविधा होने तक खाना।

अन्यथा निर्दिष्ट आहार और भोजन विकार:

रात के खाने का सिंड्रोम एक भोजन विकार है जो भोजन ग्रहण करने के तरीके से चिह्नित किया जाता है। रात के खाने के सिंड्रोम से पीड़ित लोग आधी रात को बार-बार उठकर भोजन करते हैं। बहुत कुछ बिंज खाने के विकार के समान है, लेकिन दोनों में फर्क यह है कि एनईएस में यह आवश्यक नहीं है कि व्यक्ति हर बार जागने के साथ ही बड़ी मात्रा में भोजन करे।

Symptoms

  • खाने के लिए रात के बीच में बार-बार जागना
  • मानना कि खाने से विलम्बित दैनिक स्वरूप/प्रतिरूप को शांत करने में मदद मिलेगी
  • सुबह में भूख न लगना
  • नींद में कठिनाई
  • उदास मन

शुद्धीकरण विकार वजन को नियंत्रित करने के लिए निरंतर शुद्ध होने से चिह्नित किया जाता है। शुद्धीकरण बहुत जटिल है क्योंकि एनोरेक्सिया और बुलिमिया के विपरीत, जो शुद्ध होना चाहते हैं वे न तो कम वजन के होते हैं और न ही अत्यधिक भोजन करने के लिए प्रतिपूरक व्यवहार है।

Symptoms

  • शरीर की छवि और वजन के लिए अतिशयोक्तिपूर्ण जुनून
  • जुलाब का लगातार उपयोग
  • दांतों का बदरंग होना
  • भोजन करने के बाद बार-बार बाथरूम जाना

लेटेस्ट अप्डेट्स

आत्महत्या का प्रयास कर चुके किसी से साथ कैसे बात करें

किशोरों में आत्म-हानि की प्रवृत्ति

जेरियाट्रिक अवसाद (बुजुर्गों में अवसाद)

और रोचक लेख खोजेंrytarw

साथ मिलकर हम भावनात्मक समस्याओं से परेशान बहुत से लोगों की मदद कर सकते हैं। हर एक छोटे से छोटा दान भी बदलाव ला सकता है।

दान करें और एक सकारात्मक बदलाव लाएं

हेल्पलाइन संबंधी अस्वीकरण

द लिव लव लाफ फाउन्डेशन (टीएलएलएलएफ) किसी व्यवसाय में शामिल नही है जिसमें सलाह प्रदान की जाती है, साथ ही वेबसाइट पर दिये गए नंबरों का परिचालन, नियंत्रण भी नही करता है। हेल्पलाइन नंबर केवल सन्दर्भ के प्रयोजन से है और टीएलएलएलएफ द्वारा न तो कोई सिफारिश की जाती है न ही कोई गारंटी दी जाती है जो कि इन हेल्पलाइन्स पर मिलने वाली चिकित्सकीय सलाह की गुणवत्ता से संबंधित हो। टीएलएलएलएफ इन हेल्पलाइन्स का प्रचार नही करते और न ही कोई प्रतिनिधि, वारंटी या गारंटी देते हैं और इस संबंध में कोई उत्तरदायित्व नही लेते हैं जो सेवाएं इनके माध्यम से प्रदान की जाती हैं। टीएलएलएलएफ द्वारा इन हेल्पलाइन नंबर पर किये जाने वाले कॉल के कारण होने वाले किसी भी नुकसान की जिम्मेदारी से स्वयं को अलग किया जाता है।