search
Live Love Laugh Logo

दोस्तों और परिवार के लिए

तनाव, व्यग्रता या अवसाद से परेशान व्यक्ति की देखभाल करने से पहले, आपको उस समस्या को ठीक से समझना होगा; और प्यार से सँभालने के साथ ही सही जानकारी भी बहुत मायने रखती है। प्रायः उत्साह और प्रेम, तथा किसी की मदद करने की ललक उसे घुसपैठ लग सकती है और सहायता करने के बजाय विपरीत असर कर सकती है। यह ध्यान में रखना ज़रूरी है कि आप उनसे धैर्यपूर्वक व्यवहार करें और स्थिति को स्वीकार करें - यही उनके लिए सबसे ज़रूरी मदद है। सही सहायता देते हुए आप किस तरह उनकी देखभाल कर सकते हैं, इस बारे में ज्यादा जानने के लिए नीचे पढ़ें।

अगर आपको पता चला है कि कोई दोस्त या पारिवारिक सदस्य अवसाद/तनाव/व्यग्रता से परेशान है और आपने उसे पूरी सहायता देने का निश्चय किया है, तो उसकी मदद शुरू करने से पहले आपको पहले से कुछ तैयारी अवश्य कर लेनी चाहिए।

शोध करें

इंटरनेट पर बहुत सारी वेबसाइटें, ब्लॉग और आलेख हैं, जो उस व्यक्ति की समस्या समझने में आपकी मदद करेंगे। आपके विचार में वह जिस समस्या से परेशान है, उसे सही से समझने के लिए आप लक्षणों व कारणों पर जानकारी जुटा सकते हैं और जान सकते हैं की अमुक व्यक्ति की समस्या का क्या कारण हैI

 

देखें और लिखें

उस व्यक्ति का व्यवहार, दैनिक दिनचर्या और काम-काज देखें और उन्हें दर्ज कर लें, उस व्यक्ति की सही समस्या समझने के लिए। इससे आपको लक्षण, कारणों और व्यवहारों के पैटर्न पहचानने में मदद मिलेगी। याद रखें कि यह आपको चुपचाप तथा बिना दखल दिए करना होगा।

 

किसी थेरेपिस्ट से बात करें

कभी कभी लक्षण जटिल होते हैं जिनके कारण समस्या का सही अंदाजा लगाना कठिन हो जाता है। प्रायः दिमाग के ऐसे लक्षण दो या अधिक विकारों के संकेत हो सकते हैं - उदाहरण के लिए - आघात पश्चात तनाव विकार के साथ स्थायी अवसाद भी हो सकता है। उस व्यक्ति की देखभाल से पहले किसी थेरेपिस्ट से मिलें और उन्हें व्यवहार व लक्षणों के बारे में बताएं।

 

समय और कार्य में तालमेल बनाएं

यदि आपने सीधे हस्तक्षेप का निश्चय किया है, तो याद रखें कि इसके आप पर भी विपरीत प्रभाव हो सकते हैं। इस परिस्थिति में, दो तरह के तनाव से निबटना कठिन हो सकता है। अपना तनाव घटाने के लिए और अपनी ऊर्जा उस व्यक्ति पर केंद्रित करने के लिए कोई पार्ट टाइम नौकरी करें (यदि संभव हो)।

 

वित्तीय प्रबंधन करें

यदि आप ऐसे व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं जो ऐसी समस्याओं से घिरा है, तो आपको थेरेपिस्ट से मुलाकातों तथा दवाओं के लिए अधिक पैसे खर्च करने पड़ सकते हैं। इसलिए, पहले से बजट बनाकर चलने से बोझ कम करने में मदद मिलेगी।

हम इसे समझते हैं कि लगातार हताशा और उदासी महसूस करने वाले व्यक्ति की देखभाल काफी चुनौती भरा काम होता है। खुद को महत्त्वपूर्ण मानें, क्योंकि इस भूमिका में बहुत लोग न्याय नहीं कर पाते। इसके लिए अपार धैर्य, समझ, और इच्छाशक्ति की ज़रूरत होती है। यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जो आपके तथा आप द्वारा देखभाल किए जाने वाले व्यक्ति के लिए चुनौतियों को कुछ आसान बनाएंगेः

उस व्यक्ति को समझें

वह जिस हालात से गुजर रहा है, उसे मापा नहीं जा सकता। मन खराब करना, दबाव से निबटने का आसान तरीका प्रतीत हो सकता है, लेकिन हमेशा याद रखें कि आप जिस व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं वह आपकी तरह सोच नहीं सकता। इसलिए, यदि आपने कुछ भी ऐसा कहा या किया हो जिससे आप दोनों के बीच किसी तरह का तनाव बन गया हो, तो उसे फिर से शांतिपूर्वक कहने या समझाने की कोशिश करें।

 

धैर्य रखें

ध्यान दें कि उस व्यक्ति के दिमाग में बड़ी उलझनें हैं, जिन्हें ठीक होने में समय लगेगा, और इसके लिए आपको काफी धैर्य रखना होगा। यह दवाओं से तुरंत सुलझ जाने वाली कोई समस्या नहीं होती, इसके लिए थेरेपी, दवाओं, या दोनों की ज़रूरत पड़ सकती है। जो भी हो, इसमें समय लगेगा।

 

प्रेरित करें

जीवन की उथल पुथल से गुजरने वाले रोगी की देखभाल करने के दौरान, आपको लगातार उसे छोटी-छोटी बातों के लिए भी प्रेरित करते रहना होगा। ये कुछ विशेष दैनिक काम हो सकते हैं जो उसे पसंद न हों या वह पूरी क्षमता से न कर पाता हो। ऐसे कार्य करने के लिए उसे प्रेरित करने में आपका प्रोत्साहन बड़ी भूमिका निभाएगा।

 

आत्मविश्वास बनाए रखें

हो सकता है कि आप द्वारा कोशिशें जारी रखने के बावजूद मनचाहे परिणाम न दिख रहे हों। इससे आपका आत्मविश्वास टूटता है और आप हार मान सकते हैं। कृपया याद रखें कि आप जिसकी देखभाल कर रहे हैं, उसके लिए यह एक कठिन अनुभव बन सकता है क्योंकि उसे आपकी ओर से देखभाल की आदत पड़ जाती है। इसलिए आत्मविश्वास बनाए रखें और हर बात के लिए खुद को दोषी न मानें।

 

उसे अलग रहने का समय दें

उसके आसपास लगातार रहने से भी लाभ नहीं होता। आपको यह तय करना होगा कि आप जिसकी देखभाल कर रहे हैं, उसे अकेले कितना समय देना है। हालांकि हर समय उसके साथ रहना भी उसके लिए अच्छा नहीं है, कम से कम एक या दो घंटे अकेले देना लाभकर है।

समाचार और कार्यक्रम

यदि आप भारत में मनोचिकित्सा, मनोविज्ञान या मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित अन्य सम्मेलनों व कार्यक्रमों के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो आप सही स्थान पर आए हैं।

अधिक जानें
 

ब्लॉग

अच्छी चीज़ें पढ़ने से दिल और दिमाग को हमेशा राहत मिलती है। मानसिक समस्याओं के बारे में ज्यादा जानने के लिए मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों के उपयोगी आलेख पढ़ें।

अधिक पढ़ें
 
रचनात्मक समुदाय

रचनात्मक समुदाय

प्रायः कोई शौक या नई कुशलता विकसित करने से आपको अपने मानसिक स्वास्थ्य में सहजता से सुधार लाने में मदद मिल सकती है। इससे आपका ध्यान आपको चिंतित करने वाली बातों से हटाकर आपके मौजूदा काम पर लगाते हुए दिमाग को राहत देने में मदद करता है।

रचनात्मक समुदाय, लोगों को साथ आने और गतिविधि करने के लिए जोड़ता है। ये पढ़ना, चित्रकारी, संगीत, ओरिगामी, या कोई अन्य शौक हो सकते हैं। समुदाय में शामिल हों और कुछ नया शुरू करें जिससे आपको अपने पुराने व्यक्तित्व से जुड़ने में मदद मिले और इसके साथ ही आनंद भी प्राप्त हो।

जल्द आ रहा है.....

संसाधन

इस पेज पर दी गयी कहानियां , टीम सत्यमेव जयते द्वारा शो के दर्शकों से प्राप्त प्रतिक्रियाओं की संकलित पुस्तिका से लिए गए हैं। पुस्तिका की कहानियों को चार भागों में बांटा गया है - अवसाद, बाइपोलर अवसाद, स्कित्जोफ्रेनिया और आत्महत्या।

यहांक्लिक करें करके अवसाद से पीड़ित व्यक्तियों के द्वारा बताए गए उनके अनुभव पढ़ें।

पूरी पुस्तिका पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें:

लेटेस्ट अप्डेट्स

पोस्ट ट्रॉमाटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (पी.टी.एस.डी) क्या है?

(English) The best way to let your workplace know about your mental health issues

जेरियाट्रिक अवसाद (बुजुर्गों में अवसाद)

और रोचक लेख खोजेंrytarw

साथ मिलकर हम भावनात्मक समस्याओं से परेशान बहुत से लोगों की मदद कर सकते हैं। हर एक छोटे से छोटा दान भी बदलाव ला सकता है।

दान करें और एक सकारात्मक बदलाव लाएं

हेल्पलाइन संबंधी अस्वीकरण

द लिव लव लाफ फाउन्डेशन (टीएलएलएलएफ) किसी व्यवसाय में शामिल नही है जिसमें सलाह प्रदान की जाती है, साथ ही वेबसाइट पर दिये गए नंबरों का परिचालन, नियंत्रण भी नही करता है। हेल्पलाइन नंबर केवल सन्दर्भ के प्रयोजन से है और टीएलएलएलएफ द्वारा न तो कोई सिफारिश की जाती है न ही कोई गारंटी दी जाती है जो कि इन हेल्पलाइन्स पर मिलने वाली चिकित्सकीय सलाह की गुणवत्ता से संबंधित हो। टीएलएलएलएफ इन हेल्पलाइन्स का प्रचार नही करते और न ही कोई प्रतिनिधि, वारंटी या गारंटी देते हैं और इस संबंध में कोई उत्तरदायित्व नही लेते हैं जो सेवाएं इनके माध्यम से प्रदान की जाती हैं। टीएलएलएलएफ द्वारा इन हेल्पलाइन नंबर पर किये जाने वाले कॉल के कारण होने वाले किसी भी नुकसान की जिम्मेदारी से स्वयं को अलग किया जाता है।