search
Live Love Laugh Logo

पुरुषों में आत्महत्या और अवसाद – चेतावनी के संकेत,ख़तरा उत्पन्न करने वाले कारक और सुरक्षात्मक कारक

I2012 में डब्ल्यू एच ओ की रिपोर्ट ने एक चौंकाने वाले तथ्य की घोषणा की कि दुनिया में आत्महत्या की उच्चतम संख्या भारत में मौजूद हैI इसमें पुरुष और महिला आत्महत्या अनुपात 2:1 था। पारंपरिक रूप से पुरुषों को अपने विचारों और भावनाओं को जताने और उनके भावनात्मक पक्ष को स्वीकार करने के लिए संघर्ष करना पड़ता है। यह व्यवहार कुछ पारंपरिक मर्दानी भूमिकाओं की वजह से उपजा (जैसे लड़के रोते नहीं, पुरुष अपनी भावनाओं के बारे में बात नहीं करते, असली पुरुष मुस्कुराकर सब सहते हैं आदि)।

यहाँ चेतावनी के कुछ संकेत और खतरे वाले कारक दिए हैं जो यह निर्धारित करने में मदद कर सकते हैं कि क्या किसी परिचित में आत्महत्या जैसे दुष्विचार की आशंका है:

चेतावनी के संकेत

The warning signs

चेतावनी के संकेतों में आम तौर पर व्यवहार में अचानक या क्रमिक परिवर्तन या व्यवहार का एक पूरी तरह से नया रूप शामिल हैं। ज्यादातर लोग हैं जो अपना जीवन समाप्त करते हैं इन चेतावनी संकेतों में से एक से अधिक संकेत प्रदर्शित करते हैं, या तो कहने या करने के माध्यम सेI उदाहरण के तौर पर एक व्यक्ति दूसरों के उपर स्यवं को बोझ महसूस कर रहा है, फंसा महसूस कर रहा है या जीने के लिए कोई कारण नहीं होने या बहुत ज्यादा दर्द का अनुभव के बारे में बात करता है या स्पष्ट रूप से खुद को मारने के लिए बात करता है तो यह सभी स्पष्ट चेतावनी संकेत मिल रहे हैंI

कभी कभी लक्षण बोले या बताये नहीं जाते है। यह अलग तरह के व्यवहार के माध्यम से प्रदर्शित हो सकता है जैसे शराब या नशीली दवाओं के दुरुपयोग, अन्य लापरवाह व्यव्हार, सामाजिक अलगाव, बहुत अधिक या बहुत कम सोना, क्रोध और आक्रामकता या बेशकीमती संपत्ति बांट देना आदि। जो लोग आत्महत्या का विचार कर रहे हैं वह अक्सर बेवजह उदास, उदासीन, गुस्सा, चिडचिडे या चिंतित रहते हैं।

खतरे वाले कारक

The risk factors

आत्महत्या के लिए खतरे वाले कारक उम्र और जातीयता के अनुसार बदलते हैं – उदाहरण के लिए तमिलनाडु, केरल और महाराष्ट्र में आत्महत्या की दर सबसे अधिक है – और कभी कभी साक्षरता को इससे जोड़ा गया है। यह भी हो सकता है कि जोखिम वाले कारक संयोजन में होते हैं।

आमतौर पर, 10 में से 9 आत्महत्या पीड़ितों में नैदानिक अवसाद या स्पष्ट रूप से मानसिक बीमारी होती है। कई बार वे मादक द्रव्यों के सेवन की वजह से मौत की ओर जाता है। जीवन की दर्दनाक घटनाओं को भी अवसादग्रस्तता और आत्मघाती व्यवहार के लिए ज़िम्मेदार माना जाता है लेकिन यहां यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि इस तरह के तनाव के लिए यह औसत प्रतिक्रिया नहीं है।

आत्महत्या के लिए अन्य जोखिम वाले कारकों में अक्सर परिवार में आत्महत्या का इतिहास, हिंसा, यौन शोषण, लम्बी बीमारी, पिअड़क पदार्थों का सेवन या आत्महत्या के पिचले प्रयास शामिल हैं। आग्नेयास्त्रों या अपने आप को मरने के लिए उपयोग होने के साधन मौजूद होने से आत्महत्या की संभावना बढ़ सकती हैं।

सुरक्षात्मक कारक

आत्महत्या को रोकने के लिए सुरक्षात्मक कारक अक्सर वह होते है जो कि उनके दुष्विचार कम करते हैं या बफर प्रदान करते हैं। शुरुआत के लिए, मादक द्रव्यों के सेवन, शारीरिक या यौन शोषण या पत्नी की पिटाई आदि जैसी स्थितियों के लिए नैदानिक हस्तक्षेप उपयोग करने से मदद मिलेगीI महत्वपूर्ण बात यह है कि आप या कोई परिचित जिसे अवसाद और आत्महत्या का खतरा हो उसे सहारा दें और समझने की कोशिश करें, न कि अवमानना करें या इस तरह के मानसिक बीमारियों के लिए पूर्वाग्रह रखें।

एक धरणा मुक्त वातावरण मित्रों और परिवार के संपर्क को सुधरेगा और इस समस्या से निपटने में मदद करेगा ना कि इसे बढ़ाएगा। जो लोग इस तरह के चरम कदम उठाते हैं वह अक्सर असहाय होते हैं और आत्महत्या को केवल उपलब्ध समाधान के रूप में देखते हैं। उनका व्यवहार स्वार्थी लग सकता है लेकिन वह वास्तव में हताशा भरा कदम है। तो मदद की पेशकश करें और विशेषज्ञों की मदद लें जो मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल, संघर्ष में मदद, हस्तक्षेप और चिकित्सा में कुशल हैं।

अक्सर आत्महत्या के लिए कोई एक कारण नहीं होता है। मानसिक रोग से पीड़ित एक व्यक्ति पर जब तनाव उसके सहने की क्षमता से अधिक होता है तो यह होता है। स्थितियां जैसे अवसाद, चिंता या मादक द्रव्यों का सेवन जब अनियंत्रित मात्रा में किया जाता है या इलाज नहीं किया जाता है तो आत्महत्या का खतरा बढ़ सकता है। महत्वपूर्ण है कि ज्यादातर लोग जो सक्रिय रूप से अपने मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति का प्रबंधन करने की कोशिश करते हैं वह भरपूर जीवन जी सकते हैं।

यदि आपको या आपके किसी परिचित को मानसिक स्वास्थ्य के विषय में आपात मदद की आवश्यकता है, तो आप iCALL से सम्पर्क कर सकते हैं – 022-25521111 पर। यह प्रशिक्षित मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा चलाए जा टीआईएसएस द्वारा एक पहल है। आपको यहाँ एक चिकित्सक मिल सकता है।

लेटेस्ट अप्डेट्स

एक लक्षण डिकोडर – पुरुषों में अवसाद किस तरह से दिखता है

आत्महत्या के विचार को सक्रिय करने वाली 5 सबसे आम बातें

मानसिक स्वास्थ्य में कैरियर बनाने के लिए आपको सात जरूरी कदम उठाने होंगे

और रोचक लेख खोजेंrytarw

साथ मिलकर हम भावनात्मक समस्याओं से परेशान बहुत से लोगों की मदद कर सकते हैं। हर एक छोटे से छोटा दान भी बदलाव ला सकता है।

दान करें और एक सकारात्मक बदलाव लाएं

हेल्पलाइन संबंधी अस्वीकरण

द लिव लव लाफ फाउन्डेशन (टीएलएलएलएफ) किसी व्यवसाय में शामिल नही है जिसमें सलाह प्रदान की जाती है, साथ ही वेबसाइट पर दिये गए नंबरों का परिचालन, नियंत्रण भी नही करता है। हेल्पलाइन नंबर केवल सन्दर्भ के प्रयोजन से है और टीएलएलएलएफ द्वारा न तो कोई सिफारिश की जाती है न ही कोई गारंटी दी जाती है जो कि इन हेल्पलाइन्स पर मिलने वाली चिकित्सकीय सलाह की गुणवत्ता से संबंधित हो। टीएलएलएलएफ इन हेल्पलाइन्स का प्रचार नही करते और न ही कोई प्रतिनिधि, वारंटी या गारंटी देते हैं और इस संबंध में कोई उत्तरदायित्व नही लेते हैं जो सेवाएं इनके माध्यम से प्रदान की जाती हैं। टीएलएलएलएफ द्वारा इन हेल्पलाइन नंबर पर किये जाने वाले कॉल के कारण होने वाले किसी भी नुकसान की जिम्मेदारी से स्वयं को अलग किया जाता है।