search
Live Love Laugh Logo

“महीने का वह समय”
– पीएमएस का सामना और इसके बारे में कैसे बात करें

महिलाओं के रूप में, हमें हमारे मासिक रक्त स्राव, ऐंठन और सूजन के बारे में उदासीन होना सिखाया जाता है । यहाँ तक कि पीएमएस या पूर्व मासिक धर्म सिंड्रोम के कारण हमारे मिजाज में आये बदलाव को नज़रअंदाज़ कर उस पर भी भृकुटी तानी जाती है। अक्सर निंदा या आलोचना भी बाहरी नहीं लेकिन स्वयं उत्पन्न की जाती है। जो महिलाएं औरतों को समान अवसर और समान अधिकारों की वकालत करती हैं, उनके लिए भी महिलाओं को जैविक प्रक्रिया की वजह से विशेष बर्ताव के विषय में वकालत करना मुश्किल होता है।

महिलाएं हमारे मासिक भावनात्मक रोलर कोस्टर सफ़र को पीएमएस का हिस्सा मानने पर त्योरियां चढ़ा सकती है, लेकिन तथ्य यह है कि यह किसी भी सूरत में कम चुनौतीपूर्ण नहीं है। पहले हमें इस परिप्रेक्ष्य में समझना आवश्यक है क्योंकि बहुत कम पुरुष यह समझते हैं कि वास्तव में यह कितना दर्द या बेचैनी उत्पन्न करता है।

मुँहासे, कोमलता, सूजन, थकान, चिड़चिड़ापन और मिजाज के उतार चढ़ाव के साथ पेट में ऐंठन आदि लक्षण आमतौर पर वास्तविक अवधि से एक से दो सप्ताह पहले शुरू हो जाते हैंI

फिर, एक नियमित मासिक धर्म के दौरान एक महिला को कई कम या 50-80 मिलिमीटर पारे के दबाव वाले लगभग 4 संकुचन प्रति 10 मिनट महसूस होते हैं जो 15-30 सेकंड तक रहते हैं। इस अवधि के दौरान रक्त बहाव की औसत मात्रा 10 से 80 मिलीलीटर के बीच या 6 बड़े चम्मच तक हो सकता है।

यह वास्तव में काफी पीड़ायुक्त और मुश्किल होता है जिसके कारण जापान, चीन, दक्षिण कोरिया और ताइवान जैसे कई देश मासिक धर्म अवकाश देते हैं और हाल ही में ब्रिस्टल में आधारित को-एक्जिस्ट नामक कंपनी ब्रिटेन की पहली ऐसी संस्था बनी जो मासिक धर्म छुट्टी लेने की अनुमति देता है – यानी महिलाओं को मासिक धर्म के आस पास छुट्टी लेने की अनुमति है।

तो शायद यह सही समय है कि हम अपने मासिक धर्म के प्रवाह के बारे में या ‘महीने का वह समय’ जैसे सांकेतिक बातें करना बंद कर दें या पीएमएस के रूप में अपने व्यवहार के लिए अफसोस न करें या माफ़ी न मांगें। तथ्य यह है कि दर्द, मिजाज का उतार चढ़ाव और असुरक्षा के कारण, पूरी तरह से उचित है की हम आराम का समय मांगें खासकर जब एक महीने में 6 बड़े चम्मच खून बह रहा है!

तथ्य यह है कि जितना अधिक हम इस बारे में बात करेंगे उतनी ही जागरूकता एक स्वास्थ्य मुद्दे के लिए उत्पन्न होगी जो आधी आबादी को उसके अपने वयस्क और उत्पादक जीवन के अधिकांश समय में प्रभावित करती है। जितनी अधिक जागरूकता होगी उतनी कम यह शर्म की बात होगी या महिलाओं के हार्मोन के उतार चढ़ाव / मिजाज के बदलाव को कमतर समझा जायेगा।

यदि आप हर महीने इस समस्या के साथ संघर्ष कर रहे हैं तो इसका सामना कैसे कर सकते हैं? अच्छे स्वास्थ्य के बुनियादी सिद्धांत यहाँ अच्छी तरह से लागू होते हैं। पुरानी कहानियों के विपरीत, आप जितना व्यायाम करेंगे उतना बेहतर यह आपके शरीर के लिए है। व्यायाम एंडोर्फिन उत्पन्न करता है जो कि दर्द प्रबंधन के साथ मदद करता है। अधिक फाइबर, अधिक ताजा फल और सब्जियों खाने से और प्रोस्सेसड खाद्य, वसा, नमक, चीनी और कैफीन कम खाने से भी पेट दर्द में मदद मिल सकती है। थोड़ा भोजन खाने से आपके पेट पर दबाव कम करने में मदद मिल सकती है। शराब या निकोटीन से दूर रहना भी दर्द कम करने में मदद करता है। 8 घंटे की नींद से या अपने पेट पर एक गर्म पानी की थैली का उपयोग कर भी दर्द से राहत मिलती है।

यदि आप को अच्छी खुराक की जरूरत है तो पीएमएस प्रबंधन करने के लिए, आप कैल्शियम, विटामिन ई, मैग्नीशियम और बी 6 भी ले सकती हैं क्योंकि पोषक तत्वों को शरीर मासिक धर्म की अवधि के दौरान खो देता है। आप दर्द और मिजाज का मुकाबला करने के लिए हर्बल दवाओं का सेवन कर सकती हैं। आयुर्वेद में इसके लिए कई उपचार है।

अंत में यदि आपको इसके कारण अति कष्टदायी दर्द या मिजाज के अत्याधिक उतार चढ़ाव होते हैं, तो बजाय स्वयं औषधि लेने या पोषक तत्त्व का उपयोग करने के, किसी अच्छे चिकित्सक से सलाह लें। मासिक धर्म से पहले अत्यधिक दर्द को अंडाशय में एंडोमेट्रिओसिस और अंडाणु की सिस्ट से जोड़ा गया है, तो यह बेहतर है कि इसे सहने के बजाय जाँच कराएँ।

इस चेतावनी के साथ यह भी याद रखें कि यह एक सामान्य शारीरिक प्रक्रिया है और शरीर पर इसके प्रभाव से इनकार करने की या इसके लिए माफी मांगने की कोई जरूरत नहीं है ।

लेटेस्ट अप्डेट्स

परीक्षा से संबंधित तनाव और व्यग्रता के साथ मुकाबला

क्या यह मानसिक समस्या है या बढ़ते उम्र की निशानी?

‘वह साइको है!’ ‘उसको ओसीडी है! ‘आप मेंटल हो रहे हैं!’ मनोरोग से जुड़े शब्दों का ऐसे होता है दुरुपयोग

और रोचक लेख खोजेंrytarw

साथ मिलकर हम भावनात्मक समस्याओं से परेशान बहुत से लोगों की मदद कर सकते हैं। हर एक छोटे से छोटा दान भी बदलाव ला सकता है।

दान करें और एक सकारात्मक बदलाव लाएं

हेल्पलाइन संबंधी अस्वीकरण

द लिव लव लाफ फाउन्डेशन (टीएलएलएलएफ) किसी व्यवसाय में शामिल नही है जिसमें सलाह प्रदान की जाती है, साथ ही वेबसाइट पर दिये गए नंबरों का परिचालन, नियंत्रण भी नही करता है। हेल्पलाइन नंबर केवल सन्दर्भ के प्रयोजन से है और टीएलएलएलएफ द्वारा न तो कोई सिफारिश की जाती है न ही कोई गारंटी दी जाती है जो कि इन हेल्पलाइन्स पर मिलने वाली चिकित्सकीय सलाह की गुणवत्ता से संबंधित हो। टीएलएलएलएफ इन हेल्पलाइन्स का प्रचार नही करते और न ही कोई प्रतिनिधि, वारंटी या गारंटी देते हैं और इस संबंध में कोई उत्तरदायित्व नही लेते हैं जो सेवाएं इनके माध्यम से प्रदान की जाती हैं। टीएलएलएलएफ द्वारा इन हेल्पलाइन नंबर पर किये जाने वाले कॉल के कारण होने वाले किसी भी नुकसान की जिम्मेदारी से स्वयं को अलग किया जाता है।