search
Live Love Laugh Logo

5 सर्वाधिक तनावपूर्ण पेशे और उनका आत्महत्या से जुड़ाव

तनाव और आघात मानसिक बीमारी के साथ जुड़े हुए हैं। जब ये अवसाद के साथ मिल जाते हैं तो आत्महत्या जैसी अति प्रतिक्रिया के कगार पर पहुँचा सकते हैं। कुछ पेशों में आत्महत्या कि सम्भावना अधिक होती हैं, क्योंकि उनमें उच्च तनाव होता है या आत्महत्या के साधन तक आसानी से पहुँचने का जोखिम रहता है। यहाँ सबसे तनावपूर्ण 5 पेशे और आत्महत्या से जुड़ी उनकी कड़ी का ज़िक्र कर रहे हैं:

 1  किसान

2012 में हुई आत्महत्याओं का लगभग 11% महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और केरल जैसे राज्यों के किसान थे। बेमौसम बारिश के साथ फसलों का खराब होना, समय पर हस्तक्षेप और संगठित सहायता की कमी के कारण कर्ज का पहाड़ खड़ा हो गया। इसमें कोई शक नहीं है कि किसानों को उनके बढ़ते वित्तीय संकट के कारण आत्महत्या करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

 2  पुलिस / सेना

सशस्त्र बलों और पुलिस को युद्ध, दंगे और कानून-व्यवस्था के टूटने जैसी अत्यंत कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है और अक्सर ऐसी ज्वलंत स्थिति में वे सबसे आगे होते हैं। हिंसा का इस तरह सामना करने के कारण पोस्ट ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर का खतरा बना रहता है। कुछ अनुमानों के अनुसार भारतीय सैनिकों के लिए पीटीएसडी की दर लगभग 25% पर टिकी है। पीटीएसडी के दुष्प्रभाव से आत्महत्या का विचार मन में आ सकता है।

 3  डॉक्टर / नर्स

डॉक्टरों और नर्सों का तनावपूर्ण जीवन, नींद की कमी, अनियमित काम के घंटे, जीवन या मौत के बीच झूलती स्थितियों में कार्य और जीवन समाप्त कर सकने वाले उपकरणों और दवाइयों तक पहुँच आसान है। अनुमान है कि इस मिश्रण के परिणामस्वरूप डॉक्टरों और संबद्ध चिकित्सा पेशेवरों के आत्महत्या की सबसे ज्यादा घटनाएं होती हैं।

 4  वित्त / प्रबंधन

जब एक पेशेवर दस लाख डॉलर का सौदा करता है या एक कंपनी है जो कि करोड़ों रुपये के संपत्ति संभाल रही होती है, उस पेशे में तनाव अंतर्निहित है। ऊपर से यदि मादक पदार्थों का सेवन, खराब स्वास्थ्य या वित्तीय अनियमितताओं को जोड़ते हैं तो एक दुष्चक्र उभर सकता हैं जहां कर्ज में डूबे, वित्त या वरिष्ठ प्रबंधन के उदास पेशेवरों को आत्महत्या समस्या से बाहर जाने का आसान तरीका लगता है।

 5  कलाकार

अपनी संवेदनशीलता और जुनून के बूते पर कलाकार महान कला बनाते हैं, और यह भावनाएं/ जोश जो कि महान कृति बनाती हैं वही मानसिक पीड़ा का कारण हो सकती हैं। यह भावनात्मक कमजोरी वित्तीय हताशा या व्यक्तिगत समस्याओं के साथ जुड़कर कुछ कलाकारों को आत्महत्या का शिकार बना सकती है।

लेटेस्ट अप्डेट्स

किशोरों में अवसाद के 5 कारण और प्रभाव

दीपिका ने अवसाद के बारे में 8 बातें बतायीं

परीक्षा से संबंधित तनाव और व्यग्रता के साथ मुकाबला

और रोचक लेख खोजेंrytarw

साथ मिलकर हम भावनात्मक समस्याओं से परेशान बहुत से लोगों की मदद कर सकते हैं। हर एक छोटे से छोटा दान भी बदलाव ला सकता है।

दान करें और एक सकारात्मक बदलाव लाएं

हेल्पलाइन संबंधी अस्वीकरण

द लिव लव लाफ फाउन्डेशन (टीएलएलएलएफ) किसी व्यवसाय में शामिल नही है जिसमें सलाह प्रदान की जाती है, साथ ही वेबसाइट पर दिये गए नंबरों का परिचालन, नियंत्रण भी नही करता है। हेल्पलाइन नंबर केवल सन्दर्भ के प्रयोजन से है और टीएलएलएलएफ द्वारा न तो कोई सिफारिश की जाती है न ही कोई गारंटी दी जाती है जो कि इन हेल्पलाइन्स पर मिलने वाली चिकित्सकीय सलाह की गुणवत्ता से संबंधित हो। टीएलएलएलएफ इन हेल्पलाइन्स का प्रचार नही करते और न ही कोई प्रतिनिधि, वारंटी या गारंटी देते हैं और इस संबंध में कोई उत्तरदायित्व नही लेते हैं जो सेवाएं इनके माध्यम से प्रदान की जाती हैं। टीएलएलएलएफ द्वारा इन हेल्पलाइन नंबर पर किये जाने वाले कॉल के कारण होने वाले किसी भी नुकसान की जिम्मेदारी से स्वयं को अलग किया जाता है।