search
Live Love Laugh Logo

अर्धविराम टैटू का क्या मतलब है ?

हो सकता है हाल ही में आप ने लोगों की गर्दन, हाथ और पैरों पर बने हुए अर्धविराम टैटू देखे हों। यह सिर्फ एक और सौंदर्य की सतही प्रकरण नहीं है, न ही इसका व्याकरण या विराम चिह्न के साथ कुछ लेना देना है। वास्तव में अर्धविराम टैटू बनवाकर से ये लोग मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के बारे में जागरूकता में सुधार के लिए अपना योगदान दे रहे हैं।

अर्धविराम परियोजना 2013 में सोशल मीडिया में जन्मा एक आंदोलन है। यहाँ अर्धविराम मानसिक स्वास्थ्य का द्योतक है – आत्महत्या को रोकने और मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के साथ संघर्ष के बारे में जागरूकता बढ़ाने का प्रतीक है।

अर्धविराम परियोजना के आत्म वर्णन में उल्लेख किया गया है कि यह अवसाद, नशे की लत, आत्महत्या या खुद को चोट पहुँचाने की प्रवृत्ति के साथ संघर्ष करने वालों के प्रति आशा और प्रेम का प्रदर्शन करता है। अर्धविराम परियोजना का उद्देश्य प्यार और प्रेरणा देने को प्रोत्साहित करना है।

अर्धविराम चिह्न को चुनने का कारण यह है कि व्याकरण के अनुसार इस चिह्न का प्रयोग तब होता है जब लेखक वाक्य के अन्त तक पहुँच जाता है लेकिन वाक्य को समाप्त न करने का फैसला लेता है। सादृश्य है कि मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के साथ संघर्ष कर रहा हर व्यक्ति लेखक है, और वाक्य उसका अपना जीवन है।

अर्द्धविराम परियोजना की शुरूआत जेरेमी जर्मिल्लो और जेन ब्राऊन ने 1970 में न्यू मेक्सिको के विश्वविद्यालय में अगोरा संकट केंद्र कि स्थापना से की। शुरुआत में इसकी परिकल्पना एक दिन के तौर पर की गई थी, जिस दिन लोगों को अपने शरीर पर अर्धविराम का चिह्न बनाकर उसकी तस्वीर लेने और उसे सोशल मीडिया पर जागरूकता फैलाने के लिए डालने को कहा गया था। लेकिन यह जल्द ही एक बड़ा आंदोलन बन गया।

परियोजना के तहत विभिन्न टैटू पार्लर में जाकर सैकड़ों लोगों तय दर पर अर्धविराम टैटू बनवा सकते थे। इन घटनाओं के साथ सोशल मीडिया पर चर्चा से अब यह एक वैश्विक आंदोलन बन गया है। अब दुनिया भर में लोग स्थायी टैटू बनवा रहे हैं जिससे खुद को और दूसरों को याद दिला सकें कि उन्होंने जीवन के लिए संघर्ष कर आत्महत्या के विचार के खिलाफ विजय प्राप्त की है ।

टैटू ने आत्महत्या के कलंक को कम करने को भी प्रेरित किया है और यह अक्सर मानसिक स्वास्थ्य और आत्महत्या की रोकथाम जैसे जटिल विषयों के लिए वार्तालाप शुरु करने का माध्यम बन जाता है। लोग टैटू देखते हैं और पूछते हैं कि यह क्या है? उस समय उसके बारे में, उसके उद्देश्य और आत्महत्या तथा अवसाद के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए बातें शुरू की जा सकती हैं।

आलोचना शुरू करने के अलावा यह भी उद्देश्य है कि ऐसे लोगों को, जो संकट में हो या किसी से बात करना चाह रहें हो, उन्हें मदद और सहारा उपलब्ध कराया जा सके। केंद्र की एक हेल्पलाइन है जहां अपने मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों से परेशान महसूस कर लोग फोन करके बात कर सकते हैं।

यह इस बात का एक अच्छा उदाहरण है कि टैटू जैसा एक छोटा सा इशारा कैसे वैश्विक आंदोलन शुरू कर सकता है। अगली बार जब आपके आसपास कोई असहाय और निराश महसूस कर रहा हो तो अर्धविराम टैटू का उल्लेख करें, जिससे आप उनके साथ जीवन के महत्व और मौजूदा विचारों को दूर करके आशावादी बने रहने के बारे में आलोचना कर सकें।

लेटेस्ट अप्डेट्स

7 तरीके जिसमें पुरुषों चिंता से प्रभावित हैं

आत्महत्या का प्रयास कर चुके किसी से साथ कैसे बात करें

सम्बन्ध विच्छेद और आत्महत्या के भाव- सम्बन्ध विच्छेद से उबरने में अपने दिमाग की कैसे मदद करें

और रोचक लेख खोजेंrytarw

साथ मिलकर हम भावनात्मक समस्याओं से परेशान बहुत से लोगों की मदद कर सकते हैं। हर एक छोटे से छोटा दान भी बदलाव ला सकता है।

दान करें और एक सकारात्मक बदलाव लाएं

हेल्पलाइन संबंधी अस्वीकरण

द लिव लव लाफ फाउन्डेशन (टीएलएलएलएफ) किसी व्यवसाय में शामिल नही है जिसमें सलाह प्रदान की जाती है, साथ ही वेबसाइट पर दिये गए नंबरों का परिचालन, नियंत्रण भी नही करता है। हेल्पलाइन नंबर केवल सन्दर्भ के प्रयोजन से है और टीएलएलएलएफ द्वारा न तो कोई सिफारिश की जाती है न ही कोई गारंटी दी जाती है जो कि इन हेल्पलाइन्स पर मिलने वाली चिकित्सकीय सलाह की गुणवत्ता से संबंधित हो। टीएलएलएलएफ इन हेल्पलाइन्स का प्रचार नही करते और न ही कोई प्रतिनिधि, वारंटी या गारंटी देते हैं और इस संबंध में कोई उत्तरदायित्व नही लेते हैं जो सेवाएं इनके माध्यम से प्रदान की जाती हैं। टीएलएलएलएफ द्वारा इन हेल्पलाइन नंबर पर किये जाने वाले कॉल के कारण होने वाले किसी भी नुकसान की जिम्मेदारी से स्वयं को अलग किया जाता है।